Relief and rescue operations in full swing in heavy rain affected Kerala; Centre assures all help
India, Israel agree to resume negotiations on Free Trade Agreement next month
Fire breaks out in Kuwait’s largest oil refinery, Several injured
Former US secretary of state Colin Powell dies of Covid complications
Bangladesh Home Minister says communal harmony will be protected in the country at any cost
FreeCurrencyRates.com

इंडियन आवाज़     20 Oct 2021 11:37:47      انڈین آواز

दिल्ली हिंसाः धार्मिक स्थल पर आगजनी के मामले में दो आरोपियों पर आरोप तय


AGENCIES

दिल्ली की एक अदालत ने पिछले साल हुए साम्प्रदायिक दंगों के दौरान कथित तौर पर धार्मिक स्थल पर आगजनी, मकानों और दुकानों में तोड़फोड़ करने तथा लूटपाट के लिए दो लोगों के खिलाफ दंगा, आगजनी और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के आरोप तय किए हैं।

चार्जशीट के अनुसार, आरोपी गौरव ने 24 फरवरी 2020 को दिल्ली के भजनपुरा इलाके में पेट्रोल बम से एक धार्मिक स्थल में कथित तौर पर आग लगा दी थी, जबकि आरोपी प्रशांत मल्होत्रा ​​ने उसी क्षेत्र में दुकानों, मकानों और वाहनों में तोड़फोड़ और लूटपाट की थी।

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश विनोद यादव ने दोनों आरोपियों के खिलाफ संबंधित धाराओं के तहत आरोप तय किए और उनके वकीलों की मौजूदगी में उन्हें स्थानीय भाषा में समझाया। आरोपी ने अपराध में शामिल नहीं होने की दलीलें दी और मामले में मुकदमे का सामने करने की बात कही।

पुलिस के मुताबिक, दोनों आरोपी दंगाई भीड़ का हिस्सा थे। उनका कॉल डेटा रिकॉर्ड (सीडीआर) स्थान भजनपुरा चौराहे और आसपास के इलाकों में भी पाया गया जहां कथित घटना हुई थी। एक असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर (ASI) की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया था और दोनों को तीन अप्रैल 2020 को गिरफ्तार किया गया था। हालांकि, अंतिम रिपोर्ट के अनुसार उन्हें दस दिन बाद अदालत ने जमानत पर रिहा कर दिया था।

दोनों आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 147 (दंगा), 148 (दंगा, घातक हथियार से लैस), 149 (अपराध के लिए गैर-कानूनी जमावड़ा में शामिल रहना), 427 (तोड़फोड़ की गतिविधि से नुकसान), 435 (आगजनी) के तहत आरोप लगाए गए हैं। आईपीसी की धारा 436 (आग या विस्फोटक पदार्थ से विध्वंसक गतिविधि), 392 (लूटपाट), 188 (लोक सेवक के आदेश की अवज्ञा), 34 (समान मंशा) और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान की रोकथाम (पीडीपीपी) कानून की धाराओं के तहत भी आरोप तय किए गए हैं।

दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) के तहत एक आरोपी को उस अपराध के बारे में सूचित किया जाना चाहिए जिसके तहत उस पर आरोप लगाया गया है। आरोप तय करने का मूल उद्देश्य उन्हें उस अपराध के बारे में बताना है जिसके लिए उन पर आरोप लगाया गया है ताकि वे अपना बचाव कर सकें।

गौरतलब है कि नागरिकता संशोध कानून के समर्थकों और प्रदर्शनकारियों के बीच हिंसा के नियंत्रण से बाहर होने के बाद फरवरी 2020 में उत्तर-पूर्वी दिल्ली में सांप्रदायिक झड़पें हुई थीं, जिसमें कम से कम 53 लोग मारे गए और 700 से अधिक घायल हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

SPORTS

In-form Amandeep starts favourite in 11th leg of Hero WPGT

Harpal Singh Bedi Panchkula, 19 October: In-form Amandeep Drall, is all set for an encore, having won at Ch ...

Amandeep cards superb 65 to win 10-leg of Hero WPGT

Harpal Singh Bedi Chandigarh,15  October: Amandeep Drall fired eight birdies against just one bog ...

Khalin Joshi turns the tables, wins the Jaipur Open

Jaipur, Khalin Joshi’s final round of three-under 67 proved good enough for him to turn the tables on ne ...

خبرنامہ

گلوبل ہنگر انڈیکس: کتنی حقیقت کتنا فسانہ

عندلیب اختر ؓ دنیا بھر میں بھوک اور غربت کے حوالے سے جاری گل ...

تمل ناڈو میں خواتین ملازمین کو ’بیٹھنے کا حق‘ مل گیا

ُجاوید اخترتمل ناڈو ہندوستان کی ایسی دوسری ریاست بن گئی ہے ج ...

کورونا سے تحفظ کی گولی کے حوصلہ افزا نتائج

دو امریکی کمپنیوں کی جانب سے کورونا سے تحفظ کے لیے بنائی گئی ...

MARQUEE

Google Doodle Honours Poet, Freedom Fighter Subhadra Kumari Chauhan

WEB DESKOn the occasion of the Indian activist and author's 117th birth anniversary,Google Doodle on Monday, 1 ...

Kerala Governor appeals jewellers to refrain from using photographs of brides to further their sales

AMN Kerala Governor Arif Mohammed Khan today appealed to jewellers to refrain from using the photographs of ...

@Powered By: Logicsart

The Indian Awaaz