WEB DESK

राष्‍ट्र आज आधुनिक भारत को एकता के सूत्र में पिरोने वाले लौहपुरुष सरदार वल्‍लभ भाई पटेल को उनकी 146वीं जयंती पर श्रद्धा-सुमन अर्पित कर रहा है। यह दिन राष्‍ट्रीय एकता दिवस के रूप में भी मनाया जाता है।

राष्‍ट्रपति राम नाथ कोविंद ने आज राष्‍ट्रीय राजधानी में पटेल चौक पर सरदार पटेल की प्रतिमा पर पुष्‍पांजलि अर्पित की। अनेक केन्‍द्रीय मंत्रियों ने भी लौहपुरूष को श्रद्धाजंलि दी।

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज लौह पुरुष सरदार वल्‍लभ भाई पटेल की जयंती पर उन्‍हें भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इस अवसर पर अपने वीडियो संदेश में श्री मोदी ने कहा कि सरदार वल्‍लभ भाई पटेल की प्रेरणा से भारत, बाहरी या आंतरिक सभी प्रकार की चुनौतियों को सामना करने में सक्षम रहा है। उन्‍होंने कहा कि भारत केवल भौगोलिक ईकाई नहीं है, बल्कि  एक राष्‍ट्र है, जिसके विचार और सिद्धांत तथा सभ्‍यता और संस्‍कृति महान है। उन्‍होंने कहा कि एक सौ 35 करोड़ भारतीयों की यह भूमि हमारे सपनों और आकांक्षाओं का अभिन्‍न अंग है। श्री मोदी ने कहा कि समाज में विकसित एक मजबूत लोकतंत्र ने एक भारत, श्रेष्‍ठ भारत के विचारों को शक्ति प्रदान की है। उन्‍होंने कहा कि सरदार पटेल ने सदैव एक शक्तिशाली, समावेशी, संवेदनशील, सतर्क और सभ्‍य तथा विकसित भारत की कल्‍पना की थी। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरदार वल्‍लभ भाई पटेल ने देशहित को सर्वोपरि रखा। उन्‍होंने कहा कि सरदार पटेल का स्‍थान न केवल इतिहास में, बल्कि सभी देशवासियों के हृदय में बसा हुआ है।  

सात वर्षों में राष्‍ट्र की मजबूती के लिए किए गए उपायों की चर्चा करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि देश को अनावश्‍यक पुराने कानूनों की बोझ से मुक्ति दिलाई गई। उन्‍होंने एकता के आदर्शों को सुदृढ़ बनाने और संचार तथा बुनियादी ढांचा कायम करने पर जोर दिया। उन्‍होंने क‍हा कि एक भारत श्रेष्‍ठ भारत की भावना को मजबूत बनाते हुए सामाजिक, आर्थिक और संवैधानिक एकीकरण का महायज्ञ जारी है। प्रधानमंत्री ने कहा कि आजादी के अमृत महोत्‍सव के अंतर्गत अभूतपूर्व विकास, कठिन लक्ष्‍य हासिल करने और सरदार पटेल के सपनों के भारत का निर्माण करने के प्रयास किए जा रहे हैं। प्रधानमंत्री ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सबके प्रयास की ताकत की याद दिलाई, जिसमें नए कोविड अस्‍पतालों का निर्माण, आवश्‍यक औषधियां जुटाने एक अरब लोगों को कोविड रोधी टीका लगाने जैसी उपलब्धियां सभी नागरिकों के सामूहिक प्रयासों से हासिल की गई। हाल ही में शुरू की गई प्रधानमंत्री गति शक्ति राष्‍ट्रीय मास्‍टर प्‍लान की चर्चा करते हुए श्री मोदी ने कहा कि इससे सरकारी विभागों की सामूहिक शक्ति का दोहन करने में मदद मिलेगी। उन्‍होंने कहा कि इस कार्यक्रम के जरिए सरकार के साथ अलावा लोगों की शक्ति मिलने से कुछ भी हासिल करना असंभव नहीं होगा। उन्‍होंने स्‍वस्‍थ भारत अभियान का उदाहरण देते हुए कहा कि सरकार ने लोगों की भागीदारी को राष्‍ट्र की शक्ति में तब्‍दील कर दिया।

गृह मंत्री अमित शाह आज गुजरात के केवडिया में स्‍टैचू ऑफ यूनिटी पर राष्‍ट्रीय एकता दिवस कार्यक्रम में शामिल होंगे। इससे पहले केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने सरदार वल्लभ भाई पटेल जयंती पर देशवासियों को राष्ट्रीय एकता दिवस की शुभकामनाएं दी हैं। एक ट्वीट में श्री शाह ने कहा कि सरदार पटेल का मातृभूमि के प्रति समर्पण, संघर्ष और त्याग हर भारतीय को देश की एकता और अखंडता के लिए समर्पित होने की प्रेरणा देता है। सरदार पटेल का जीवन यह मिसाल सामने रखता है कि कैसे दृढ़ इच्छाशक्ति, मजबूत नेतृत्व और अदम्य देशभक्ति से एक व्यक्ति देश की संपूर्ण विविधता को एकता में बदल सकता है और उसे संगठित राष्ट्र का रूप दे सकता है। देश के एकीकरण के साथ सरदार पटेल ने स्वतंत्र भारत में प्रशासनिक व्यवस्था की भी बुनियाद रखी।

सरदार पटेल जयंती पर मुख्य कार्यक्रम गुजरात के केवड़िया में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पर होगा। इस अवसर पर राष्ट्रीय एकता परेड और विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है।

केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह सरदार पटेल को श्रद्धा सुमन अर्पित करने के बाद राष्ट्रीय एकता परेड में हिस्सा लेंगे। परेड में अर्धसैनिक बल और गुजरात पुलिस के जवान शामिल होंगे।