Web Hosting
FreeCurrencyRates.com

इंडियन आवाज़     21 Apr 2019 07:59:42      انڈین آواز
Ad

राजस्थान चुनाव मे मुस्लिम उम्मीदवार भी दमदारी से चुनाव लड़ते नजर आ रहे है

लेकिन कांग्रेस के दिग्गज नेता अपने व अपनो की सीट बचाने मे हमेशा की तरह सक्रिय नजर आये।

।अशफाक कायमखानी। जयपुर।

muslims-Rajasthan

राजस्थान विधानसभा सभा चुनाव के 22-नवम्बर को नामांकन वापसी के बाद उभरी तस्वीर से कांग्रेस-भाजपा के अलावा कुछ अन्य दलो के नीशान पर चुनाव लड़ रहे मुस्लिम उम्मीदवार अपने स्तर पर तो दमदारी के साथ आगे बढते नजर आ रहे है। लेकिन उनके पक्ष मे हनुमान बेनीवाल को छोड़कर उनकी पार्टी के दिग्गज नेता व लगती सीट से चुनाव लड़ने वाले उनके दल के अन्य उम्मीदवार उनके लिये पैन लेकर उनकी मदद करने को कतई तैयार नजर नहीं आ रहे है। इसी कारण मुस्लिम उम्मीदवार के जीतने मे शंका के बादल हमेशा मंडराते रहते है। हालांकि अब तक तो अक्सर यह देखा गया है कि अवल तो मुस्लिम उम्मीदवार के आसानी से जीत पाने वाली मुस्लिम बहुल सीटो से मुस्लिम की बजाय दलो के दिग्गज नेता ही उम्मीदवार बनकर उन सीटों से आ जाते है। दूजा वो अपनी लगती सीट से बने मुस्लिम उम्मीदवार को उसके स्वयं के भरोसे छोड़कर अपना व अपनो का चुनावी हित साधने मे व्यस्त होकर रह जाते है।

हालांकि कांग्रेस ने अबके पंद्रह व भाजपा के एक उम्मीदवार के अलावा राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी व अन्य दलो के नीसान पर चुनाव लड़ रहे कुछ मुस्लिम उम्मीदवार काफी मजबूत स्थिति मे नजर आ रहे है। लेकिन उनके भविष्य का फैसला अभी भी भविष्य के गर्भ मे छुपा हुवा है। भाजपा के टोंक से चुनाव लड़ रहे उम्मीदवार परिवहन मंत्री यूनूस खा का मुकाबला कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलेट से होने के कारण यूनूस खान आखिर मे कमजोर होते नजर आयेगे। तो सीकर से राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के उम्मीदवार वाहिद चोहान व मसूदा से उम्मीदवार पूर्व विधायक कयूम खान अपने अपने क्षेत्र मे कांग्रेस भाजपा के उम्मीदवारों पर अभी से भारी पड़ने के साथ साथ चुनाव नजदीक आते आते काफी भारी पड़ते दिखाई देगे। दूसरी तरफ लाडनू से अम्बेडकर मोर्चा के तस्लीम आरिफ मुन्ना व मंडावा से बसपा उम्मीदवार अनवार खान भी संघर्ष को कड़ा बनाने मे लगें हुये है।

राजस्थान मे कांग्रेस ने 2013 के मुकाबले एक उम्मीदवार कम करके कुल पंद्रह मुस्लिम उम्मीदवार चुनावी रणक्षेत्र मे उतारे है। जिमसे मारवाड़ के बाडमेर जिले के शिव विधानसभा क्षेत्र से पूर्व मंत्री आमीन खा, जेसलमैर जिले की पोखरण विधानसभा से पूर्व विधायक शाले मोहम्मद व जोधपुर की सूरसागर क्षेत्र से मोहम्मद अय्यूब को टिकट दिया। उक्त तीनो ही मुस्लिम सिंधी बीरादरी से तालूक रखने के साथ साथ आमीन व शाले मोहम्मद चुनाव जीत सकते है। जोधपुर शहर की मुस्लिम बहुल सीट सरदारपुरा से जब से अशोक गहलोत ने विधानसभा चुनाव लड़ना शूरु किया है तब से उन्होंने नाम मात्र वाली मुस्लिम मतदाता वाली सूरसागर सीट से बदल बदल कर मुस्लिम को उम्मीदवार तो हरदम बनाया है। लेकिन उसको चुनाव जीताने की कोशिश आज तक नहीं करने के परिणाम स्वरूप सईद अंसारी व जैफू खा अनेक दफा चुनाव हारते रहे है। अबके भी सूरसागर के परीणाम वही ढाक के तीन पात आना तय है। जबकि गहलोत के उदय के पहले जोधपुर शहर से मुस्लिम विधायक बनते व चुनाव जीतते रहे है।

इसी तरह अजमेर सम्भाग की पुष्कर क्षेत्र से पीछला चुनाव बूरी तरह हारने वाली कांग्रेस उम्मीदवार पूर्व मंत्री नसीम अख्तर मैदान मे भाजपा उम्मीदवार के सामने कड़े संघर्ष मे उलझी नजर आ रही है। मकराना से पूर्व विधायक जाकीर हुसैन भी भाजपा से मुकाबले मे है तो कभी कांग्रेस फिर भाजपा व अब कांग्रेस के उम्मीदवार के तौर पर नागोर से चुनाव लड़ रहे विधायक हबीबुर्रहमान के सामने भाजपा उम्मीदवार के अलावा कांग्रेस के बागी शमशेर खान भी मुसीबत बने हुये है।

शेखावाटी जनपद की चूरु सीट से रफीक मण्डेलीया का सीधा मुकाबला भाजपा के दिग्गज नेता व लगातार छ दफा विधायक बनने वाले राजेन्द्र राठौड़ से सीधा संघर्ष माना जा रहा है। कांग्रेस के पहले उम्मीदवार रहे हुसैन सैय्यद के कल भाजपा मे शामिल होकर राठौड़ के समर्थन मे आने से मण्डेलीया की मुसीबत बढने लगी है। लेकिन किसान मतदाताओं का साथ मण्डेलीया को अभी भी मजबूत बनाये हुये है। फतेहपुर शेखावटी से कांग्रेस उम्मीदवार हाकम अली को पहले माकपा के उम्मीदवार आबीद हुसैन, बसपा उम्मीदवार जरीना खान व आप उम्मीदवार तैयब अली से घर मे संघर्ष करने के बाद भाजपा की उम्मीदवार सुनीता जाट को मात देने का चेलेन्ज स्वीकार करना होगा। देखना होगा कि फतेहपुर का चुनाव जाट व गैर जाट के मध्य होगा या फिर मुस्लिम व गैर मुस्लिम का चुनाव होगा। हार जीत इसी भी निर्भर रहेगा।

मेवात क्षेत्र के अलवर जिले के तीजारा क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार पूर्व मंत्री दूरु मियां को सपा के फजल हुसैन के अलावा भाजपा से झूझना पड़ रहा है। पीछले 2013 के चुनाव मे बसपा उम्मीदवार की हैसियत से फजल हुसैन दूसरे नम्बर पर तो कांग्रेस के दूर्रु मियां तीसरे नम्बर पर रहे थे। एवं भाजपा चुनाव जीती थी। मेव समाज से नहीं होने के कारण अबके दूर्रु मियां मुकाबले से बाहर होते नजर आ रहे है। रामगढ़ से पहले उम्मीदवार रहे जुबेर खान के दो दफा लगातार चुनाव हारने के कारण उनकी पत्नी सफीया खान को कांग्रेस ने उम्मीदवार बनाकर मैदान मे उतारा है। लेकिन रामगढ मे भाजपा काफी एकजुट नजर आ रही है। इसी तरह भरतपुर के कामा क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार जाहिदा खान के मुकाबले भाजपा ने गोपालगढ मस्जिद गोली कांड के आरोपी को मैदान मे उतार सम्प्रदाय आधार पर चुनाव बनाने की कोशिश करती नजर आ रही है।

जयपुर शहर की मुस्लिम बहुल आदर्श नगर सीट से कांग्रेस उम्मीदवार रफीक खान व आमीन कागजी भी बतौर कांग्रेस उम्मीदवार कड़े संघर्ष मे फंसे दिख रहे है। इन दोनो उम्मीदवारो को लगती सीट से लड़ने वाले कांग्रेस उम्मीदवार कितनी मदद कर पाते है, उस मदद पर इनकी जीत काफी निर्भर बताते है। इसी तरह हाड़ोती की सवाईमाधोपुर सीट से बाहरी कांग्रेस उम्मीदवार दानीस अबरार को उनका घमंड व अक्खड़पन नूक्सान पहुंचाता नजर आ रहा है। जबकि सवाईमाधोपुर से किसी स्थानीय मुस्लिम को उम्मीदवार बनाया जाता तो उसके चुनाव जीतने के काफी चांसेज हाई रहते। दानीस पीछला चुनाव इसी वजह से हार चुके है। कांग्रेस की रिवायत के मुताबिक कोटा शहर की मुस्लिम बहुल सीट से कांग्रेस के दिग्गज नेता शांति धारीवाल स्वयं चुनाव लड़ रहे है। लगती लाडपुरा सीट से पहले कांग्रेस टिकट पर दो दफा चुनाव हार चुके नईमुद्दीन गूड्डू की पत्नी गुलनाज को उम्मीदवार बतौर धारीवाल ने अपनी जीत पक्की करने के लिये बनाया है।

कुल मिलाकर यह है कि कांग्रेस का गैर मुस्लिम हर दिग्गज नेता वोही बनता है जो चालाकी के साथ मुस्लिम बहुल सीट को अपना चुनाव क्षेत्र बनाकर चुनाव लड़ने का जूगाड़ बैठा लेता है। कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट का स्वयं गूज्जर होते हुये किसी गूज्जर बहुल सीट से लड़ने की बजाय मुस्लिम बहुल सीट टोंक से चुनाव लड़ना स्टीक उदाहरण है। पूर्व मुख्यमंत्री गहलोत सहित प्रदेश के अधीकांश कांग्रेस नेता हमेशा से ऐसे करते हुये दिग्गज नेता कहलवा पाये है। दूसरी तरफ इतिहास पर नजर डाले तो पाते है कि मुस्लिम को कांग्रेस टिकट तो दे देती है। लेकिन पूरे चुनावी समय मे कांग्रेस व उस दल के नेता उन मुस्लिम उम्मीदवारो को उनके हाल पर छोड़ कर केवल अपने व अपनो के लिये मदद करते रहते है। जिसके कारण मुस्लिम उम्मीदवारो को असहाय की तरह केवल अपने बलबूते पर चुनाव लड़ने को मजबूर होते हुये काफी हानि उठानी पड़ती है। 2013 के विधानसभा मे मुस्लिम को कांग्रेस ने सोलाह टिकट व भाजपा ने चार टिकट दिये थे। जिनमे कांग्रेस के सी सोलह उम्मीदवार हार गये थे एवं भाजपा के दो उम्मीदवार चुनाव जीत गये थ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ad
Ad

ELECTIONS

EC issues notice to Siddhu for seeking votes on religious lines

  AMN The Election commission has issued a notice to Congress leader, Navjot Singh Siddhu for seeki ...

EC stops online streaming of web series on PM Modi

AMN / NEW DELHI The Election Commission has ordered to stop online streaming of a web series on Prime Ministe ...

Electioneering at its peak for 3rd phase of LS polls

AGENCIES Leaders across political spectrum holding rallies and roadshows for the third phase of Lok Sabha ele ...

Ad

SPORTS

Asian Weightlifting Championships begin in China

The Asian Weightlifting Championships began in Ningbo, China today. The competition will continue till the 28t ...

Asian Athletics Championships to begin in Doha tomorrow

The Asian Athletics Championships will begin in Doha tomorrow. The first day will decide eight gold medals. ...

IPL: Rajasthan defeat Mumbai by five wickets

In IPL Cricket, Rajasthan Royals defeated Mumbai Indians by five wickets in Jaipur this evening. Rajasthan ach ...

Ad

MARQUEE

116-year-old Japanese woman is oldest person in world

  AMN A 116-year-old Japanese woman has been honoured as the world's oldest living person by Guinness ...

Centre approves Metro Rail Project for City of Taj Mahal, Agra

6 Elevated and 7 Underground Stations along 14 KmTaj East Gate corridor 14 Stations all elevated along 15.40 ...

CINEMA /TV/ ART

Priyanka Chopra is among world powerful women

AGENCIES   Bollywood actress Priyanka Chopra Jonas has joined international celebrities including Opr ...

Documentary on Menstruation stigma ‘Period’ wins Oscar

  WEB DESK A Netflix documentary Period. End of sentence, on the menstruation taboo in rural India has ...

Ad

ART & CULTURE

Noted Urdu writer Jamil Jalibi is no more

  Author of the seminal history of Urdu literature, editor of one and founder of another eminent literar ...

Telugu poet K Siva Reddy selected for prestigious Saraswati Samman

  AMN Noted Telugu poet K Siva Reddy has been selected for the prestigious Saraswati Samman, 2018 for h ...

@Powered By: Logicsart