FreeCurrencyRates.com

इंडियन आवाज़     14 Apr 2024 06:50:30      انڈین آواز

राजस्थान के मुस्लिम समुदाय ने शिक्षा क्षेत्र मे करवट बदली

(Last Updated On: 22/06/2016)

अब लड़कीया भी राज्य बोर्ड मेरीट मे स्थान पाने लगी

अशफाक कायमखानी

राजस्थान के दसवी बोर्ड परीणाम मे फतेहपुर (सीकर) की रुकसार व रामगढ (अलवर) की अफसाना ने राज्य मेरीट मे नवे व ग्यारवे स्थान पर अपनी जगह बनाकर प्रदेश मे पिछले कुछ सालो से मुस्लिम समाज मे गलर्स शिक्षा के प्रति अवाम के बदले रुझान के चलते अवामी जागृति पैदा होने का ही परीणाम है कि दो मुस्लिमो ने राज्य मेरीट मे स्थान पाया और दोनो ही लड़कीया है।

rajasthan muslim education

हालाकि देश स्तरीय बहस या योजनाओ के बनाते समय या हायर प्रशासनीक स्तर की सेवा रजल्ट मे राजस्थान के मुस्लिमो का शिक्षा स्तर पर पिछड़ने के चलते दक्षिणी भारतीय व बिहार, युपी के मुकाबले जिक्र कम ही होता रहा हे लेकिन आठ दस साल मे राजस्थान के मुस्लिम समुदाय ने भी शिक्षा रस्सी से मजबूती से पकड़ कर अनेक हायर सेवा मे कामयाबी के झंडे गाडकर बहस मे बराबरी पर ला खड़ा किया है। पिछले बीस साल पहले प्रदेश के मुस्लिम समुदाय ने जीवन मे खाते झटको व नफरतो से सबक लेकर सियासी नैताओ के जाल से निकलकर समाजी थिंक टेंको ने मिलकर अपनी बिरादरी या इलाकाई स्तर पर जो अभियान धीरे धीरे लेकिन मजबूती के साथ चलाया जिसके परीणाम मेवात जैसे इलाके अलवर-भरतपुर मे लड़की को परम्परावादियो के दबदबे के चलते स्कूल भेजना नामुमकीन था वही आज गावं-शहर सभी जगह पढने जाने आम बात हो चला है। दुसरी तरफ शेखावाटी मे गलर्स ऐजुकेशन का चलन तो हमेशा से रहा है लेकिन अब वो सिस्टेमेटिक हो चुका है। मारवाड़, हाड़ोती, बीकाणा व मेवाड़ मे भी तेजी के साथ मुस्लिम गलर्स ऐजुकेशन वो भी सिस्टेमेटिक बढ रहा है।

राजस्थान के मुस्लिम समाज पर नजर डालते हुये शिक्षा मे पिछड़ने पर नजर डाले तो बात सामने यह आती है की दैश बंटवारे का दंश बुरी तरह झेलने वाली मेव बिरादरी के बडे समाजी चौधरी थे वो ही सियासी लिडर रहे जिन्होने अपने बेटी-बहनो को तो घर से बाहर भेजकर दैश के बेहतरीन तालीमी इदारो से आला तालीम का इंतेजाम लेकिन बाकी बिरादरी को अपनी चौधराहट को चेलेंज ना होने के इरादे के चलती खेती-बाड़ी या आपसी झगड़ो मे ही उलझाये रखने मे दिलचस्पी परदे के पिछे निभाते रहे। लेकिन पिछले बीस सालो से मेव बिरादरी के शिक्षक, वकील व समाजी कारकूनो ने सुझबूझ के साथ बिना किसी लिडर को बताये खुद के खर्चे पर जो अपने अपने स्तर पर सामुहिक व व्यक्तिगत कोशिशे करके जो जन जागृति अभियान चलकर शिक्षा के प्रति परिवारो के दिलो मे दर्द पैदा किया है वो अब रुकने से भी रुकने वाला नही है।

शेखावाटी व मारवाड़ मे देहाती परिवेष मे निवास करने वाली कायमखानी बिरादरी ने भी दैश बंटवारे का मामूली दंश तो झेला लेकिन उनकी अनपढ या मामूली पढी लिखी सियासी लिडरशिप के होने के बावजूद अपनी शिक्षित व मजबूत समाजी लिडरशिप के चलते वो शिक्षा क्षेत्र मे मामुली पिछड़ने के बावजूद 1960 से फिर कपनी गाडी को पटरी पर लाकर रफ्तार के साथ दौड़ा कर काफी बेकलोक पुरा करते हुये शिक्षा की रस्सी को मजबूती से समय समय पर आवश्यक्तानुसार बदलाव करते हुये पकड़े रखा है। दुसरी तरफ दैश के सिमावर्ती इलाके जैसलमेर, बाडमेर व बीकानेर इलाको मे रहने वाले सिन्धी मुस्लिमो की भी अनपढ या कम पढी लिखी सियासी लिडरशिप व अनेक सरकारी पाबन्दियो के बावजूद दिनी मदारीसो व अन्य स्कूलो के मार्फत रफ्ता रफ्ता तालीम तो पाई जो पिछले बीस साल से युवको व समाजीक कारकूनो ने अपनी मेहनत से अवामी मुहीम चलाकर हर शख्स के दिल मे शिक्षा के प्रति अलख जगाकर रख दी है जिसके सार्थक परीणाम स्पष्ट नजर आते है। दुसरी तरप टोंक के मालपुरा कस्बे के सैयद(नकवी) का शिक्षा स्तर हमेशा अच्छा रहा है।उनके भी हर घर मे सरकारी नौकरी वाला मिल जाता है।वही नागोर जिले के कुछ गावो मे निवास करने वाले देशवाली पत्थर गड़ाई व खेती का काम करते अब पढाई की तरफ रजू तो हो रहे लेकिन रफ्तार धीमी है। तो अजमेर जिले मे निवास करने वाले चीता-काठातो के अभावो के मध्य उनके पढे लिखे युवाओ ने अगली पिढी को पढाने का अभियान तो चला रखा है लेकिन उनके इलाको मे सरकारी स्कूल का पुरी तरह आभाव है, वही निजी स्कूलो मे पढाने के लिये उनके आर्थिक हालात साथ नही दे रहे है।

हाड़ोती के किसान प्रवृति के मजबूत गद्दी व खैलदार बिरादरी की समाजी व सियासी लिडरशिप हमेशा से पढी लिखी रही है, बताते है कि इनके घर घर मे शिक्षक मिल जाते है। शिक्षा का चलन हमेशा से इनमे रहने से इनके अधिकारी भी बनते आ रहे है। मेवाड़ मे रहने वाले बोहरी मुस्लिम शिक्षा व व्यापारिक तौर पर मजबूत बिरादरी है।वही चित्तोड़ व बांसवाड़ा मे भी अब रंग बदलने लगा है।

इनके अलावा व्यापारिक जैहन रखने वाले पारिवारिक हाथ के धंधे के कारीगर वाली लुहार, लीलगर, मनीयार, मोची, अंसारी, मंसूरी, धोबी कसाई(कुरेशी), सहित अनेक बिरादरियो ने अपने खानदानी धंधे को आधुनिक रुप देकर अपने व्यापार को बढाया है वही तालीम की अहमियत समझकर पिछले दो दशको से अपनी अपनी समाजी पंचायतो या NGO बनाकर बच्चो को आला तालीम की तरफ गामजन कर रखा है। लेकिन काजी व बिसायतियो के तालीमी स्तर मे जो तरक्की होनी चाहिये थी वो नही हो पा रही है।

कुल मिलाकर यह है कि प्रदेश के मुस्लिम समुदाय के हर घर व परीवार मे शिक्षा के प्रति पिछले कुछ सालो पहले जो उमंग जगी व लगन लगी थी उसके सार्थक परीणाम आने लगे है। खुशी की बात यह है की लड़को के अलावा लड़कीयां भी राज्य कि विभिन्न श्रेणियो की आला मुकाम वाली सर्विस के साथ साथ भारतीय प्रशानीक सेवाओ मे चयनित होकर अन्य लोगो को राह दिखाते हुये वतन की खिदमत कर रही है। मेडिकल, इंजिनियरिंग, न्यायीक सेवा के लिये लड़कियो के लिये कठीन माने जाने वाली आर्मी सर्विस मे यह लड़कीया चयनीत हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

خبرنامہ

PATANJALI CASE: سپریم کورٹ نے بابا رام دیو کی معافی قبول کرنے سے انکار کر دیا۔

SOCIAL MEDIA نئی دہلی: سپریم کورٹ نے بدھ (10 اپریل 2024) کو ادویات کے ...

سپریم کورٹ نے گمراہ کن اشتہارات پر پتنجلی آیوروید اور بابا رام دیو کی سرزنش کی۔

AMN / WEB DESK سپریم کورٹ نے گمراہ کن اشتہارات کے معاملے میں منگل ...

سپریم کورٹ نے ایم پی سنجے سنگھ کو ضمانت دی، ای ڈی نے مخالفت نہیں کی۔- sanjay singh

نئی دہلی: عام آدمی پارٹی کے رکن پارلیمنٹ سنجے سنگھ کو دہلی ای ...

MARQUEE

Singapore: PM urges married Singaporean couples to have babies during year of Dragon

AMN / WEB DESK Prime Minister of Singapore Lee Hsien Loong has urged married Singaporean couples to have ba ...

Himachal Pradesh receives large number of tourists for Christmas and New Year celebrations

AMN / SHIMLA All the tourist places of Himachal Pradesh are witnessing large number of tourists for the Ch ...

Indonesia offers free entry visa to Indian travelers

AMN / WEB DESK In a bid to give further boost to its tourism industry and bring a multiplier effect on the ...

MEDIA

 Sheyphali Sharan Takes Charge as PDG of PIB

AMN Senior Information Service Officer Sheyphali B Sharan today took over the charge of Principal Director ...

Noted Journalist Zafar Agha Passes Away

Journos shocked over his demise AMN / NEW DELHI Noted journalist and and the Editor-in-Chief Nation ...

RELIGION

Mata Vaishno Devi Bhawan Decorated With Imported Flowers Ahead Of Navratri Festival

AMN In Jammu, ahead of the festivl of Navratri, Katra and Mata Vaishno Devi Bhawan is decorated with import ...

Holy Relics of Lord Buddha Return to India After Exposition in Thailand

AMN The holy relics of Lord Buddha and his disciples Arahant Sariputta and Arahant Maha Moggallana has ret ...

@Powered By: Logicsart