FreeCurrencyRates.com

इंडियन आवाज़     16 Jul 2018 12:28:28      انڈین آواز
Ad

हरियाणा में एक और दुखद घटना; स्कूल से अगवा कर छात्र से सोडमी के बाद हत्या

fule picture of Victim rahul

AMN / फरीदाबाद

गुरुग्राम के रायन इंटरनेशनल स्कूल में सात साल के छात्र प्रद्युम्न की हत्या की चर्चाएं शहर में अभी गर्म ही थीं कि, फरीदाबाद में एक और दर्दनाक मामला सामने आया है। सीकरी गांव में 7वीं कक्षा में पढ़ने वाले छात्र के साथ पहले कुकर्म किया गया और फिर हत्या करके शव को दफना दिया गया। जानकारी के मुताबिक घटना 24 अगस्त की है जब छात्र स्कूल आया था और यहीं से लापता हो गया।

छात्र स्कूल से ही आरोपी युवक के साथ बाउंड्री फांदकर चला गया। मामले में पूरी तरह स्कूल प्रशासन की लापरवाही नजर आती है। मामले की गंभीरता को देखते हुए शिक्षा विभाग ने आदेश जारी कर सीकरी गांव के सरकारी स्कूल में फिलहाल छुट्टी करा दी है। स्कूल की प्रिंसिपल प्रेमलता ने कहा कि उन्होंने सोमवार को ही जॉइन किया है और उन्हें इसकी ज्यादा जानकारी नहीं है।

बता दें कि स्कूलों की लापरवाही की वजह से कई ऐसे मामले सामने आए जिसमें बच्चों की मौत हो गई। वसंतकुंज के रायन इंटरनैशनल स्कूल में पिछले साल एक बच्चे की पानी की टंकी में डूबकर मौत हो गई थी। दो दिन पहले ही गाजियाबाद के सिल्वरस्कूल में स्कूल बस ने ही छात्रा को कुचल दिया।

मूलरूप से मुजफ्फरपुर, बिहार निवासी रामसागर पिछले पांच साल से सीकरी गांव में परिवार के साथ रोबिन शर्मा के घर में किराए पर रहे हैं। चार बच्चों में सबसे बड़ा राहुल (13) गांव के ही सरकारी स्कूल में कक्षा सात का छात्र था। 24 अगस्त की सुबह राहुल स्कूल गया लेकिन शाम तक घर नहीं लौटा। परिजनों ने स्कूल में पता किया तो बताया गया कि राहुल लंच तक स्कूल मेें था उसके बाद कहां गया पता नहीं। परिजनों ने सदर सीकरी चौकी में बेटे के गुम होने की शिकायत दी। पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज कर ली। इधर परिजन बच्चे की खोज करते रहे। रामसागर ने राहुल के सहपाठियों से जानकारी ली। एक छात्र ने उन्हें बताया कि राहुल को अंतिम बार उसने गांव के सूरज नाम के युवक के साथ जाते हुए देखा था। इस पर रामसागर ने पड़ोस में ही रहने वाले सूरज की तलाश की तो वह भी लापता था। उन्होंने पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने परिजनों पर दबाव डाल कर सूरज को हाजिर करने को कहा। रविवार शाम सूरज पुलिस के हत्थे चढ़ा, पहले तो वह गुमराह करता रहा, पुलिस ने सख्ती की तो उसने राहुल से कुकर्म कर हत्या करने की बात कुबूल की।

ऐसे की थी हत्या
सूरज ने पुलिस को बताया कि राहुल उसे बहुत अच्छा लगता था। 24 अगस्त को उसने राहुल को हवस का शिकार बनाने की ठानी। वह लंच के समय सरकारी स्कूल पहुंचा। स्कूल परिसर में खेल रहे राहुल को उसकी मां के पेट मेें दर्द होने का झांसा देकर बुलाया। गेट पर ताला लगा होने की वजह से राहुल दीवार फांद कर स्कूल के बाहर आया और दोनों चल पड़े। सूरज के मुताबिक, वह राहुल को स्कूल के पीछे सुनसान में स्थित झाड़ियों के पास ले गया, वहां उससे कुकर्म का प्रयास किया। विरोध किया तो उसने राहुल का गला दबा दिया। बेसुध होकर गिरे किशोर से उसने कुकर्म किया। होश में आने के बाद पीड़ित शिकायत न कर दे इसलिए पास ही पड़े पत्थर से सिर कुचल कर उसकी हत्या कर दी। कोई शव को देख न सके इसलिए ढेर सारी झाड़ियां तोड़कर ऊपर डाल दीं और फरार हो गया।

जिला उपायुक्त ने स्कूल में छुट्टी कराई
छात्र राहुल की कुकर्म के बाद हत्या की सूचना मिलने को संवेदनशील मानते हुए जिला उपायुक्त समीरपाल सरो ने डीईओ को सीकरी के सरकारी स्कूल में छुट्टी करवाने के निर्देश दिए। सरकारी स्कूल में पढ़ाई चल रही थी कि प्रिसंपल ने आदेश मिलने पर आधे समय से पहले ही छुट्टी घोषित कर बच्चों को घर भेज दिया। जिला उपायुक्त ने गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में छात्र की हत्या के बाद रविवार को हुुए प्रदर्शन से सबक लेते हुए यह निर्णय लिया। उन्हें सूचना मिली थी कि सीकरी मेशं भी छात्रों के परिजन इकट्ठा होकर हंगामा कर सकते हैं।

‘सारी उम्मीदें तोड़ बचुआ चला गया’
मूल रूप से मुजफ्फरपुर (बिहार) के सिधवारी थाना कटरा के रहने वाले रामसागर ने रोते हुए बताया कि बच्चों के बेहतर भविष्य के लिए पांच साल पहले उन्होंने घर छोड़ा था। इंडस्ट्रियल एरिया स्थित एक फैक्ट्री में सुपरवाइजर पद पर तैनात रामसागर के परिवार को बड़े बेटे राहुल से बहुत उम्मीदें थीं। परिवार वाले चाहते थे कि राहुल पढ़ लिखकर बड़ा अधिकारी बने और अपने तीन छोटे भाई बहनों का भी भविष्य बनाए। बेटे के कंकाल देख कर फफक पड़े रामसागर बोले कि सारी उम्मीदें तोड़कर बचुआ चला गया। घर में कोहराम की स्थिति थी। बेटे की मौत के गम में मां बार बार अपना होश खो रही थी तो छोटे भाई बहन आंसू बहा रहे थे।

स्कूल प्रबंधन पर भी उठे सवाल
राहुल की मौत से इलाके के लोगों में स्कूल प्रबंधन के खिलाफ काफी रोष है। लोगों का कहना था कि 24 अगस्त की सुबह स्कूल पहुंचा राहुल लंच के बाद गायब हो गया यह जानने के बावजूद स्कूल प्रबंधन ने उसकी तलाश नहीं की। जब परिजनों ने पूछताछ की तो उन्हें दो टूक जवाब दे दिया गया कि छात्र लंच के बाद से गायब है। लोगों का कहना है कि यदि स्कूल प्रबंधन राहुल के गायब होते ही सक्रिय हो जाता, उसके परिजनों को सूचना मिल जाती तो शायद यह हादसा भी न होता। लोगों का कहना है कि प्रबंधन स्कूल का मुख्य गेट बंद होने की दलील दे रहा है, इससे दीवार फांद कर बाहर जाने वाले बच्चों की निगरानी की जिम्मेदारी खत्म नहीं हो जाती।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ad
Ad
Ad

MARQUEE

SC slams Centre for ‘lethargy’ over upkeep of Taj Mahal

AMN / NEW DELHI The Supreme Court today criticised the Central Government and its authorities for their, wh ...

India, Nepal to jointly promote tourism

AMN / KATHMANDU India and Nepal have decided to promote tourism jointly. This was decided at the 2nd meeting ...

@Powered By: Logicsart