इंडियन आवाज़     20 Apr 2018 04:37:46      انڈین آواز

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद शशिकला ने किया आत्म समर्पण

sasikala1a jail

 

सुप्रीम कोर्ट से आखिरी उम्मीद टूटने के बाद आखिकार वी शशिकला को जेल जाना ही पड़ा। आय से अधिक संपत्ति के मामले में सुप्रीम कोर्ट से सजा के बाद बुधवार को शशिकला ने बेंग्लुरु जेल में ही आत्मसमर्पण कर दिया।

इससे पहले मंगलवार सुबह शशिकला ने सुप्रीम कोर्ट से सरेन्डर करने के लिये कुछ और समय देने की मांग की जिसे अदालत ने ठुकरा दिया। जिसके बाद शशिकला चेन्नई से बैग्लुरू के लिये रवाना हो गयी। शशिकला बेंग्लुरु जाने से पहले जयललिता की समाधि स्थल पर पहुंचीं और वहां उन्होने माथा टेका, इसके बाद शशिकला एमजीआर के मेमोरियल पर भी पहुंचीं और कुछ देर ध्यान लगाया। इससे पहले मंगलवार देर रात शशिकला फैसला आने के बाद जनता के सामने आईं और उन्होने लोगो को संबोधित भी किया। शशिकला की मुश्किले लगातार बढ़ती जा रही है बुधवार को उनके ख़िलाफ़ तमिलनाडु के कोवाथुर में विधायक के अपहरण के मामले में एफआईआर भी दर्ज हो गयी है।

लगातार बदलते घटनाक्रम में शशिकला ने जेल जाने से पहले कुछ ऐसे फैसले लिये है जिनपर फिर से बहस शुरू हो गयी है। शशिकला ने अपने परिवार के सदस्य दिनाकरन और वेंकटेश को फिर से पार्टी में शामिल कर लिया है, इन दोनो ही लोगों को जयललिता ने वर्षों पहले पार्टी से निष्कासित कर दिया था क्योकि इन लोगों पर जयललिता के खिलाफ साजिश रचने का आरोप लगा था। शशिकला ने दिनाकरन को एआईएडीएम का उप महासचिव भी नियुक्त कर दिया है।

इससे पहले शशिकला ने ओ पन्नीरसेल्वम और उनके समर्थक नेताओं के. पांडियाराजन, पी.एच पांडियन, एन. विश्वनाथन और सी. पोन्नियन को पार्टी से निकाल दिया है। लेकिन पन्नीरसेल्वन खेमे को उस समय बल मिला जब जयललिता की भतीजी दीपा भी उनके खेमे में आ गयी । उधर राज्य में सियासी अनिश्चितता जारी है। दोनों खेमों ने मंगलवार को राज्यपाल से मुलाकात की थी। दोनों पक्षों की ओर से अपने अपने बहुमत का दावा किया जा रहा है।

हालांकि इन दावों पर राज्यपाल ने अभी तक कोई फैसला नही लिया है। सबकी निगाहें राज्यपाल पर हैं कि वो क्या फैसला लेते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Archive

April 2018
M T W T F S S
« Mar    
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
30  

@Powered By: Logicsart