Ad
FreeCurrencyRates.com

इंडियन आवाज़     26 Sep 2018 08:46:52      انڈین آواز
Ad

सीकर के मुसलमानों की शैशणिक स्थिती ठीक होने के बावजूद प्रशासनीक सेवा मे भागीदारी शुन्य

अशफाक कायमखानी/सीकर

राजस्थान के शेखावाटी जनपद का दिल कहलाने वाले सीकर शहर के मुस्लिम समुदाय की शेक्षणिक व आर्थिक स्थिती अन्य जगह के मुसलमानो के मुकाबले दिसावर ,अरब व स्थानीय स्तर पर कारोबार करने के चलते ठीक ठाक होने के बावजूद उनकी प्रशासनीक सेवा मे भागीदारी अभी तक शुन्य ही बनी हुई है। जबकि छोटे छोटे गावं-ढाणियो मे अभावो के मध्य जीवन जीने वाले बच्चो की इस सेवा मे भागीदारी चाहे धिमी रफ्तार से हो रही हो लेकिन अक्सर भागीदारी नजर आती रहती है।
हालाकि सीकर शहर के मुस्लिम समुदाय मे कोई टाटा-बीड़ला व अजीम भाई प्रेमजी की राह तो नही पकड़ पाया लेकिन उनकी खिदमत ऐ खल्क की राह पर चलने वाले चाहे कम लेकिन समय समय पर चलने वाले दानी व भागी जरुर शहर मे पैदा होते रहे है। सेठ नूर मोहम्मद कुरेशी से लेकर सेठ रमजान गहलोत तक सेंकड़ो लोग ऐसे रहे है जिनके नाम के आगे सेठ लगता रहा है। मोजुदा समय मे शिक्षा के क्षेत्र मे वाहिद चोहान व दान के क्षेत्र मे सैय्यद शब्बीर अली के कभी कभार अभावो मे आने की हालत के बावजूद अपने खिदमत-ऐ-खल्क के काम को लगातार जारी रखने की तारिफ जीतनी की जाये वो कम ही हांकी जायेगी। सीकर शहर के श्री कल्याण अस्पताल को एक समय मे तत्तकालीन अति आवश्यकतानुसार मरहुम हुसैन बक्स तवंर ने एक जनरेटर दान देकर जो सिलसिला शुरु किया था उसको आगे बढाने के लिये इसी अस्पताल के चपरासी रहे मरहुम सीराज अली के बेटे सैय्यद शब्बीर अली ने लाखो रुपयो की आधुनिक डायलेसीस मशीन व अन्य जदीद उपकरण उपलब्ध करवा कर खिदमत ऐ खलक के काम को जारी रख रखा है। लेकिन अभी तक एक भी बंदा ऐसा नही सामने आया कि जो कहे कि वो पांच उन बच्चो की आर्थिक मदद करेगा जो प्रशासनीक सेवा की तैयारी करने के लिये जयपुर व प्रदेश के बाहर जाकर तैयारी करना चाहते हो। चाहे वजह कुछ भी रही हो लेकिन यह सत्य है कि सीकर शहर के मुस्लिम समुदाय का एक भी शख्स अभी तक प्रशासनीक सेवा मे भागीदारी निभाने से कोसो दूर ही है।
हालाकि सीकर शहर के मुस्लिम समुदाय को इस तरफ आकर सबक लेने के लिये उनके सामने आदर्श के तोर पर अक्सर मुस्लिम आफीसर भी यहां पोस्टेड होते रहे है। मोहम्मद सबीरुद्दीन खान जिला कलेक्टर, अशफाक हुसैन सहायक कलेक्टर, शीराज अली जैदी उपखण्ड अधिकारी, व डा.शमसुद्दीन खान रजिस्ट्रार, शेखावाटी विश्वविधालय एवं हेदर अली जैदी जिला पुलिस अधीक्षक व कुवर सरवर खान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के पद कार्यरत रह चुके है। इनके अतिरिक्त सैय्यद मुकर्रम शाह उपमहानिरीक्षक, पंजीयन व मुद्रांक व मोहम्मद अय्यूब खान उप पुलिस अधीक्षक जैसे पदो पर मोजुदा समय मे कार्यरत है।इन सब के अतिरिक्त जरा हटकर नजर डाले तो भंवरु खां जिला जज व मुजफ्फर चोधरी, इसरार खोकर एवं अंजुम खान न्यायीक अधिकारी के तोर पर सेवा देते हुये एक आदर्श रह चुके है। इतर नजर डाले तो जलदाय विभाग मे नईमुल हक व बीजली विभाग मे मिन्हाजुद्दीन superintendent engineer रह चुके है। शहर के मोहम्मद फारुक जयपुर मे बीजली विभाग मे SE व खुर्शीद हुसैन x.en पद पर सेवा भी दे रहे है।
अभी राजस्थान के जारी हुये सरकारी आंकड़ो से प्रतीत होता है कि कालेज स्तर पर मुस्लिम समुदाय के बच्चो मे पढने वाले मे 100 लड़को के मुकाबले 106 लड़कीया तालीम ले रही है। जबकि सीकर शहर का आंकड़ा इससे भी लड़कीयो का प्रतीशत काफी अधिक है। इन आंकड़ो के साथ साथ बना शेक्षणिक माहोल अनुसार अगर बच्चो मे प्रशासनीक सेवा की तरफ जाने का शोक उनमे पेदा करने के लिये किसी भी तरह की कार्ययोजना पर अमल किया जाये तो शहर मे जल्द एक सुनहरा माहोल पैदा हो सकता है।
कुल मिलाकर यह है कि माहोल पुरी तरह अनुकूल होने के बावजूद सीकर शहर के मुस्लिम समुदाय मे बच्चो का प्रशासनीक सेवा की तरफ जाने के लिये उनकी ठीक से जहनशाजी करके वतन की खिदमत करने की तरफ सभी को सोचना होगा। अन्यथा इस दोड़ मे हम अगर इसी तरह अब पिछड़ते चले गये तो शदीया हमे पछताना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ad
Ad
Ad

MARQUEE

Policy for Eco-tourism will provide livelihood to local communities

AMN / NEW DELHI GOVERNMENT OF INDIA has prepared a policy for Eco-tourism in forest and wildlife areas, which ...

Living index: Pune best city to live in, Delhi ranks at 65

The survey was conducted on 111 cities in the country. Chennai has been ranked 14 and while New Delhi stands a ...

Ad

@Powered By: Logicsart