FreeCurrencyRates.com

इंडियन आवाज़     19 Oct 2017 09:02:21      انڈین آواز
Ad

मुसलमानों ने ही अंबेडकर को संविधान सभा में पहुंचाया था  

डॉ। अंबेडकर की 126 वीं वर्षगांठ पर सभा

दलित और मुस्लिम एकता समय महत्वपूर्ण जरूरत: जस्टिस सिद्दीकी

नई दिल्ली: देश के मौजूदा राजनीतिक हालात से निराश और आहत न होने की शिक्षा देते हुए राष्ट्रीय आयोग फॉर माइनॉरिटी संस्थान टयूशनज़ पूर्व चेयरमैन जस्टिस एमएस ए सिद्दीकी ने कहा कि दलित और कमजोर वर्गों से गठबंधन के लिए समय ठीक जरूरत है। साम्प्रदायिक शक्तियों के उदय की पृष्ठभूमि में “जितना हम मजबूत होंगे इतना वह मजबूर होंगे” का नारा देते हुए जस्टिस सिद्दीकी ने कहा कि देश की मिनजुमला आबादी दलित 23 प्रतिशत हैं और मुसलमान भी 23 प्रतिशत। यदि यह दोनों मिल जाएं तो 46 प्रतिशत आबादी एक मजबूत राजनीतिक ताकत बन सकती है। उन्होंने कहा कि अब मुसलमानों को अपने एजेंडे पर ही काम करना चाहिए।

ambedkar justice siddiquiभारतीय संविधान के निर्माता और कमजोर वर्गों के मसीहा डॉ भीमराव अंबेडकर के 126 जयंती के अवसर पर अखिल भारतीय परिसंघ फॉर सोशल जस्टिस द्वारा आयोजित आज यहां सदन गालिब में आयोजित एक सभा को संबोधित करते हुए जस्टिस सिद्दीकी ने कहा कि डॉ। अंबेडकर के न केवल दलितों और कमजोर वर्गों बल्कि मुसलमानों पर भी बड़े परोपकार हीं.जनाों एक ऐसा संविधान संपादित किया जो धार्मिक और भाषाई अल्पसंख्यकों के शिक्षा अधिकार को मौलिक अधिकारों का दर्जा दिया गया। जब संविधान सभा में चर्चा के दौरान ‘अल्पसंख्यक’ की जगह पर ‘हर नागरिक’ शब्द पर जोर दिया जा रहा था तो अंबेडकर ने उसका कड़ा विरोध और प्रतिरोध की थी। संविधान की धारा 30 के तहत धार्मिक अल्पसंख्यकों को अपने शैक्षणिक संस्थान स्थापित करने और चलाने की पूरी स्वतंत्रता प्रदान की गई तथा मातृभाषा में शिक्षा और धर्म और आस्था और संस्कृति पर चलने और उसकी प्रचार स्वतंत्रता प्रावधानों 25 और 26 में दी गई। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट के एक निर्णय के परिणाम में सरकार को ‘भ्रष्टाचार’ के मामले में अल्पसंख्यक शैक्षणिक संस्थान में कुछ हस्तक्षेप का मौका मिला है।

वर्तमान स्थिति का विश्लेषण करते हुए जस्टिस सिद्दीकी ने कहा कि हमें दिल से नहीं दिमाग से काम लेने की जरूरत है। साथ ही किसी और के एजेंडे पर नहीं बल्कि अपने एजेंडे पर काम करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि आज भी देश में छू हुए स्तन बाकी है और दलितों के साथ न ानसाफयाँ हो रही हैं और मिल्लत भी हाल बुरा है लेकिन कोई नेता इस पर बोलने की हिम्मत नहीं कर रहा है। इस आग दाकाना चाहिए क्योंकि लौ विशेषता ऊंचाई होती है और आँसुओं की सुविधा पस्ती। उन्होंने दलितों से रिश्ते रेखा आर करने पर जोर देते हुए कहा कि इस्लाम ने समीकरण जो सार्वभौमिक शिक्षा दी है उसे हम से जुड़ें। इस अवसर पर उन्होंने इसके लिए एक रणनीति की घोषणा करते हुए कहा कि दलित छात्रों को छात्रवृत्ति दी जाएगी। और करया करया दलित-मुस्लिम एकता की मशाल जलाई जाएगी।

इस अवसर पर जस्टिस सिद्दीकी सहित कई वक्ताओं ने इस ऐतिहासिक तथ्य को भी उजागर किया कि डॉ। अंबेडकर को संविधान साज़ासम्बली में प्रेषक मुसलमान ही थे। क्योंकि उनकी संविधान सभा निर्माता में दो बार पहुँचने प्रयासों को सवर्ण हिंदुओं ने नाकाम बना दिया था.काईद आजम मोहम्मद अली जिन्ना की ाीमायपर बंगाल से मुस्लिम लीग के एक सदस्य ने अपनी सीट अंबेडकर के लिए खाली कर दी थी जिस पर वह संविधान सभा के लिए निर्वाचित हुए। अगर मुसलमान अंबेडकर को संविधान सभा में नहीं भेजते तो आज यह दस्तूर भी नहीं होता। उनके बारे सांप्रदायिक शक्तियां इस गलतफहमी फैलाते हैं कि वह मुसलमानों के विरोध थे वह सरासर बदनामी और सफेद झूठ है।
शिक्षा के क्षेत्र की नामी व्यक्ति पीएसी ानझमदार कहा सांप्रदायिक ताकतों के अशांति और गलतफहमी फैलाने के मंसूबों को नाकाम अंबेडकर, ज्योति बाफले और शिवाजी के जन्मदिन पर सभाएं निकालकर किया जा सकता है। इस अवसर पर उन्होंने पूना में चला रहे उनके शैक्षिक संस्थानों द्वारा निकाले गए जुलूस की एक वीडियो भी दिखाई।

मौलाना आजाद नेशनल उर्दू विश्वविद्यालय के पूर्व प्रो कुलपति ख्वाजा शाहिद ने कहा कि अंबेडकर को अपने जीवन में जिन अमानवीय उम्मीताज़ात का सामना करना पड़ा उसका दर्द संविधान में झलकता है। उन्होंने कहा कि अंबेडकर ने 19 नवंबर 1949 को संविधान सभा में अपनी अंतिम भाषण में जिन तीन खतरों का जिक्र किया था वह सब सही साबित हुए हैं। उन्होंने चेतावनी दी थी कि अपने मांग को असंवैधानिक तरीके से न मनवायाजाए, नेताओं को भगवान का दर्जा न दिया जाए और सामाजिक लोकतंत्र को राजनीतिक लोकतंत्र में तब्दील न किया जाए। अंबेडकर ने गांधी जी द्वारा दलितों के लिए ‘हरिजन’ शब्द भी कड़ा विरोध किया था। अंबेडकर बड़े दूरदर्शिता थे यही कारण है उन्होंने सरकार से धार्मिक शिक्षा प्रदान करने का विरोध किया था और आज आप देख रहे हैं कि सरकारें एक विशेष धर्म की शिक्षा कोचोर दरवाजे से तय करने की कोशिश कर रही हैं।

सभा में डॉ। अंबेडकर को जबरदस्त श्रद्धांजलि गया। ऑल इंडिया परिसंघ फॉर वुमेन सशक्तिकरण फेंक शिक्षा के अध्यक्ष डॉ शबस्तान गफ्फार ने जिन्होंने निदेशालय कर्तव्यों भी अंजाम दिए, कहा कि इस सम्मेलन के आयोजन का उद्देश्य दलित और मुसलमानों में एकता का मार्ग प्रशस्त करना है। ऐसे जलसे और कार्यक्रम देश भर में आयोजित किए जाएंगे। सभा से कई दलित नेताओं हेमराज बंसल, आरके नारायण, कुंवर सिंह, हरि भारद्वाज के अलावा सिराजुद्दीन कुरैशी, मौलाना साजिद रशीद, इंजीनियर मोहम्मद असलम, और चौधरी अब्बास अली ने भी संबोधित किया।

Leave a Reply

You have to agree to the comment policy.

Ad
Ad
Ad
Ad

SPORTS

FIFA U-17:Iran hold off Mexico to make last eight

Iran were 2-0 ahead by the 11th minute Allahyar Sayyad scored his third goal of India 2017 Iranians will f ...

Denmark Open Super Series Badminton tournment begins

Denmark Open Super Series Premier Badminton tournament began in Odense today. Qualification matches and som ...

Ad

Archive

October 2017
M T W T F S S
« Sep    
 1
2345678
9101112131415
16171819202122
23242526272829
3031  

OPEN HOUSE

Mallya case: India gives fresh set of documents to UK

AMN India has given a fresh set of papers to the UK in the extradition case of businessman Vijay Mallya. Ex ...

@Powered By: Logicsart

Help us, spread the word about INDIAN AWAAZ

RSS
Follow by Email20
Facebook210
Facebook
Google+100
http://theindianawaaz.com/%E0%A4%AE%E0%A5%81%E0%A4%B8%E0%A4%B2%E0%A4%AE%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A5%8B%E0%A4%82-%E0%A4%A8%E0%A5%87-%E0%A4%B9%E0%A5%80-%E0%A4%85%E0%A4%82%E0%A4%AC%E0%A5%87%E0%A4%A1%E0%A4%95%E0%A4%B0-%E0%A4%95">
LINKEDIN