FreeCurrencyRates.com

इंडियन आवाज़     21 Aug 2018 07:43:01      انڈین آواز
Ad

झारखंड में स्वामी अग्निवेश पर हमला, भाजपा कार्यकर्ताओं पर आरोप

 

 

swami agniwesh assulted in Jharkhand

RANCHI

सामाजिक कार्यकर्ता स्वामी अग्निवेश की कथित तौर पर भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) और एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने पिटाई कर दी है। उन्होंने अग्निवेश के कपड़े भी फाड़ दिए। स्वामी अग्निवेश मंगलवार को लिट्टीपारा में आयोजित एक कार्यक्रम में शामिल होने के लिए झारखंड के पाकुड़ पहुंचे थे।

अग्निवेश ने बताया कि कार्यक्रम स्थल से बाहर आते ही युवा मोर्चा और एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने हमला कर दिया। उन्होंने अग्निवेश पर हिंदुओं के खिलाफ बोलने का आरोप लगाया। अग्निवेश ने कहा, ‘मुझे लगता था कि झारखंड शांतिपूर्ण राज्य है, लेकिन इस घटना के बाद मेरे विचार बदल गए हैं।’

घटना के सामने आए वीडियो में भीड़ अग्निवेश और उनके समर्थकों को पीटते हुए दिख रही है। पुलिस अधीक्षक शैलेंद्र प्रसाद बरनवाल ने कहा कि जिले में अग्निवेश के कार्यक्रम की पहले से कोई जानकारी नहीं थी। पाकुड़ के उपमंडलीय पुलिस अधिकारी अशोक कुमार सिंह ने कहा कि दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

स्थानीय पत्रकार रामप्रसाद सिन्हा ने बताया, ”लिट्टीपाड़ा के जिस होटल में स्वामी अग्निवेश ठहरे हुए थे, उसके बाहर भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ता उनका विरोध प्रदर्शन करने के लिए धरने पर बैठे हुए थे.”

”अग्निवेश जैसे ही होटल से निकले, उनपर दर्जनों लोगों ने हमला कर दिया. उन्हें काले झंडे भी दिखाए गए और वापस जाओ के नारे लगाए गए. उन्हें जूते-चप्पलों से पीटा गया और गालियाँ दी गईं.”

”यह सब दस मिनट तक निर्बाध चलता रहा. बाद में पहुँची पुलिस ने उन्हें भीड़ से बचाया और होटल के कमरे तक वापस पहुँचाया. डॉक्टरों की एक टीम ने यहाँ उनकी मरहम-पट्टी की. बाद में उन्हें सदर अस्पताल ले जाया गया.”

कुछ समय पहले सनातन धर्म को लेकर दिए अग्निवेश के बयान से कुछ संगठन नाराज हो गए थे। इसके बाद अग्निवेश के रांची दौरे को लेकर भाजयुमो कार्यकर्ता विरोध कर रहे थे। यह घटना तब हुई है जब सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को ही देश भर में हो रही भीड़ की हिंसा की निंदा की है।

छत्तीसगढ़ के सक्ति में जन्मे स्वामी अग्निवेश ने कोलकाता से कानून और बिजनेस मैनेजमेंट की पढ़ाई की है. इसके बाद वे आर्य समाजी हो गए और संन्यास ग्रहण कर लिया. इस दौरान 1968 में उन्होंने आर्य सभा नाम की राजनीतिक पार्टी बनाई.

बाद में साल 1981 में उन्होंने बंधुआ मुक्ति मोर्चा की स्थापना की. वे राजनीति में भी सक्रिय रहे. हरियाणा से विधानसभा चुनाव लड़ा और जीतकर मंत्री बने.

लेकिन, वहाँ मजदूरों पर लाठीचार्ज की एक घटना के बाद उन्होंने मंत्रीपद से इस्तीफ़ा दे दिया और राजनीति को अलविदा कह दिया. उनपर सलवा जुडूम से जुड़े लोगों ने भी बस्तर में हमला किया था. तब उन्हें वहाँ से भागना पड़ा था.

सीएम रघुबर दास ने दिए जांच के आदेश

झारखंड के पाकुर में भाजपा युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं द्वारा कथित रूप से स्वामी अग्निवेश की पिटाई के मामले में मुख्यमंत्री रघुबर दास ने जांच के आदेश दिए हैं। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने गृह सचिव को पाकुड़ में स्वामी अग्निवेश के साथ हुई मारपीट की जांच के आदेश दिए हैं। जानकारी के अनुसार संथालपरगना के आयुक्त और डीआईजी मामले की जांच करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ad
Ad
Ad
Ad

MARQUEE

Living index: Pune best city to live in, Delhi ranks at 65

The survey was conducted on 111 cities in the country. Chennai has been ranked 14 and while New Delhi stands a ...

Jaipur is the next proposed site for UNESCO World Heritage recognition

The Walled City of Jaipur, Rajasthan, India” is the next proposed site for UNESCO World Heritage recognition ...

@Powered By: Logicsart