Ad
FreeCurrencyRates.com

इंडियन आवाज़     20 Oct 2018 05:30:45      انڈین آواز
Ad

आतंकवाद के खिलाफ मुहिम किसी मजहब के खिलाफ नहीं: पीएम मोदी

No religion preaches people to be intolerant - PM Modi

 

AMN / NEW DELHI

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आतंकवाद और उग्रवाद के खिलाफ मुहिम किसी मजहब के खिलाफ नहीं होती है। साथ ही प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत की तरक्की के लिए सरकार की कोशिश सबको साथ लेकर चलने की है।

नई दिल्ली के विज्ञान भवन में इस्‍लामिक विरासत- समझ और उदारवाद को बढ़ावा देने के विषय पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि आतंकवाद और उग्रवाद के खिलाफ मुहिम किसी मजहब के खिलाफ नहीं होती है। साथ ही प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत की तरक्की के लिए सरकार की कोशिश सबको साथ लेकर चलने की है।

प्रधानमंत्री  ने कहा कि भारतीय लोकतंत्र बहुलता की परंपरा का उत्सव है। साथ ही प्रधानमंत्री ने कहा कि हर भारतीय को अपनी विविधता की विशेषता पर गर्व है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत से ही अमन और मोहब्बत का संदेश सारी दुनिया में फैला है। प्रधानमंत्री ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ जॉर्डन के प्रयासों के साथ भारत चलना चाहेगा।

प्रधानमंत्री ने कहा है कि हिंसा और आतंकवाद जैसी चुनौतियों का सामना विरासत और आदर्शों, धर्म के संदेशों तथा सिद्धांतों के माध्‍यम से ही किया जा सकता है। नई दिल्‍ली में इस्‍लामिक विरासत – समझ और उदारवाद को बढ़ावा देने विषय पर कार्यक्रम को संबोधित करते हुए श्री मोदी ने कहा कि कोई भी धर्म लोगों को असहिष्‍णु और हिंसा की शिक्षा नहीं देता और बेकसूर लोगों पर बर्बर हमले करने वाले कभी भी किसी धर्म से जुड़े नहीं हो सकते।

इंसानियत के खिलाफ दरिंदगी का हमला करने वाले शायद ये नहीं समझते कि नुकसान उस मजहब का होता है, जिसके लिए खड़े होने का वो दावा करते है। आतंकवाद और उग्रवाद के खिलाफ मुहिम किसी पंथ के खिलाफ नहीं है, ये उस मानसिकता के खिलाफ है, जो हमारे युवाओं को गुमराह करके मासूमों पर जुल्‍म करने के लिए अमाद है।

श्री मोदी ने कहा कि धर्म की आत्‍मा कभी भी अमानवीय नहीं हो सकती क्‍योंकि हर परंपरा और संप्रदाय का मतलब मानवीय मूल्‍यों को बढ़ावा देना है। उन्‍होंने कहा कि युवाओं को इस्‍लाम के मानवीय मूल्‍यों से जुड़ना चाहिए और प्रगति के लिए आधुनिक विज्ञान का उपयोग करना चाहिए।


हर पंथ, हर सम्‍प्रदाय, हर परम्‍परा मानवीय मूल्‍यों को बढ़ावा देने के लिए ही है और इसलिए आज सबसे ज्‍यादा जरूरत है कि हमारे युवा एक तरफ मानवीय इस्‍लाम से जुड़े हों और दूसरी तरफ आधुनिक विज्ञान और तकनीक के साधनों का इस्‍तेमाल भी कर सकें।

श्री मोदी ने कहा कि सभी धर्मों, विविधताओं और संस्‍कृतियों को विकसित करना भारत की पहचान रही है। उन्‍होंने कहा कि लोकतंत्र हमारी बहुलता का उत्‍सव है। जार्डन के शाह अब्‍दुल्‍ला द्वि‍तीय ने अपने संबोधन में कहा कि दुनिया में शांति बनाये रखना जार्डन और भारत की साझा जिम्‍मेदारी है। उन्‍होंने कहा कि युवाओं के भविष्‍य को उज्‍जवल और सुरक्षित बनाने की जरूरत है। उन्‍होंने घृणा और हिंसा के खिलाफ मुहिम छेड़ने पर जोर दिया है।

आज आतंक के खिलाफ वैश्विक जंग विभिन्‍न धर्मों और लोगों के खिलाफ नहीं है। यह चरमपंथियों के खिलाफ मानवता और विश्‍वास की जंग है, जो घ़ृणा और आतंक फैलाने में विश्‍वास रखते हैं। हमें यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि युवा हमारे धर्मों के वास्‍तविक मूल्‍यों को समझें और हमें उन्‍हें सिखाना होगा कि जो सभ्‍यता हमें मिली है, उसका सम्‍मान करें।

शाह अब्‍दुल्‍ला भारत की तीन दिन की यात्रा पर मंगलवार को दिल्‍ली पहुंचे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ad
Ad
Ad

MARQUEE

3000-year-old relics found in Saudi Arabia

Jarash, near Abha in saudi Arabia is among the most important archaeological sites in Asir province Excavat ...

Instagram co-founders quit

WEB DESK The 2 co-founders of Instagram have resigned, reportedly over differences in management policy with ...

Ad

@Powered By: Logicsart