FreeCurrencyRates.com

इंडियन आवाज़     21 Feb 2019 03:45:23      انڈین آواز
Ad

अटार्नी जनरल ने रखा सरकार का पक्ष, कहा- SC/ST को प्रमोशन में रिजर्वेशन जायज

sc

नई दिल्ली

सरकारी नौकरियों में प्रमोशन में आरक्षण को लेकर सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की संविधान पीठ समीक्षा कर रही है। संविधान पीठ सरकारी नौकरियों की पदोन्नति में ‘क्रीमी लेयर’ के लिए एससी-एसटी आरक्षण के मुद्दे पर अपने 12 साल पुराने फैसले की समीक्षा कर रही है। इसी मसले पर सरकार ने माना है कि इस मसले पर फैसला एससी/एसटी के पक्ष में जाना चाहिए।

वेणुगोपाल ने कहा- मैं इस एसएसी/एसटी की पदोन्नति मामले को सही या गलत नहीं बताना चाहते। लेकिन सर्वोच्च अदालत का ध्यान हजारों साल से इन के खिलाफ हो रही ज्यादती की ओर जरूर दिलाना चाहूंगा।।।उनके साथ दुर्व्यवहार अब भी हो रहा है। AG ने कहा कि सरकार चाहती है कि 22।5% (15% SC+7।5% ST) सरकारी पदों पर तरक्की में भी SC/ST के लिए आरक्षण का प्रावधान हो। अटॉर्नी जनरल ने कोर्ट को बताया कि इस तरह से ही SC/ST को समुचित प्रतिनिधित्व दिया जा सकता है।

केंद्र सरकार ने कहा कि साल में होने वाले प्रमोशन में SC/ST कर्मचारियों के लिए 22।5 फ़ीसदी आरक्षण मिलना चाहिए। ऐसा करने से ही उनके प्रतिनिधित्व की कमी की भरपाई हो सकती है। केंद्र सरकार ने कहा कि प्रमोशन देने के समय SC/ST वर्ग के पिछड़ेपन का टेस्ट नहीं होना चाहिए क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने इंद्रा साहनी के फैसले में कहा था कि पिछड़ापन SC/ST पर लागू नहीं होता क्योंकि उनको पिछड़ा माना ही जाता है। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट अब फिर से ये विचार करेगा कि क्या सरकारी नौकरी में पदोन्नति में SC/ST को आरक्षण दिया जा सकता है या नहीं, भले ही इस संबंध में उनके अपर्याप्त प्रतिनिधित्व को लेकर डेटा ना हो।

गौरतलब है कि कई राज्य सरकारों ने हाईकोर्ट के प्रमोशन में आरक्षण रद्द करने के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। उनकी दलील है कि जब राष्ट्रपति ने नोटिफिकेशन के जरिए SC/ST के पिछड़ेपन को निर्धारित किया है, तो इसके बाद पिछड़ेपन को आगे निर्धारित नहीं किया जा सकता। पिछले महीने ही इस पर विचार रखते हुए चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस एएम खानविलकर और जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा था कि 2006 के फैसले – एम नागराज पर विचार के लिए 7 जजों वाली संविधान पीठ की जरूरत है। केंद्र की ओर से अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि 7 न्यायाधीशों वाली संविधान पीठ को इस मामले की फौरन सुनवाई करनी चाहिए, क्योंकि विभिन्न न्यायिक फैसलों से उपजे भ्रम की वजह से रेलवे और सेवाओं में लाखों नौकरियां अटकी हुई हैं।

राज्यों व SC/ST एसोसिएशनों ने दलील दी कि क्रीमी लेयर को बाहर रखने का नियम SC/ST पर लागू नहीं होता और सरकारी नौकरी में प्रमोशन दिया जाना चाहिए क्योंकि ये संवैधानिक जरूरत है। वहीं हाईकोर्ट के आदेशों का समर्थन करने वालों की दलील थी कि सुप्रीम कोर्ट के नागराज फैसले के मुताबिक इसके लिए ये साबित करना होगा कि सेवा में SC/ST का पर्याप्त प्रतिनिधित्व नहीं है और इसके लिए डेटा देना होगा।

दरअसल, दलित मुद्दे को लेकर सरकार पर चौतरफा हमला हो रहा है और अब वो किसी हाल में विपक्ष को खुद पर बीस साबित होने देना नहीं चाहती है। यही वजह है कि गठबंधन के अपने साथियों और देश भर में हो रहे विरोध के चलते एससी/एसटी एक्ट के प्रावधानों में सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों से उलट पुराने प्रावधानों को जारी रखने पर तैयार हो गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Ad
Ad

SPORTS

Badminton Junior: Samiya Farooqui to lead Girls team, Maisnam Luwang to lead boys

Selected for Dutch Junior International and the German Junior    Harpal Singh Bedi / New Delhi ...

2020 ICC Women’s T20 WC tickets on sale

Tickets for next year's ICC Women's T20 World Cup will go on sale to the public from Thursday February 21 at t ...

New Zealand win ODI series 3-0 against Bangladesh

  New Zealand has clinched the three-match ODI series against Bangladesh 3-0. The hosts won the final ...

Ad

MARQUEE

President Kovind confers PM Rashtriya Bal Puraskar 2019

    AMN / NEW DELHI President Ram Nath Kovind today conferred the Pradhan Mantri Rashtriya ...

Major buildings in India go blue as part of UNICEF’s campaign on World Children’s Day

Our Correspondent / New Delhi Several monuments across India turned blue today Nov 20 – the World Children ...

CINEMA /TV/ ART

Indian short film wins award at Clermont-Ferrand Film Festival

  By Utpal Borpujari / New Delhi “Binnu Ka Sapna”, a short film by Kanu Behl of “Titli” fame, ...

Google dedicates doodle to Madhubala on her 86th birth anniversary

Google dedicates doodle to Madhubala on her 86th birth anniversary   One of India's most beautifu ...

Ad

@Powered By: Logicsart